मतदान के बूथ क्यूँ नहीं लूटने चाहिये?

सन २००९ के चुनाव में किसीने एक नेता के लिये टेढ़ामऊ के मतदान मथक को लूटने की कोशिश की और दद्दन पहलवान वोट देने पहुँचे.

सन २०१४ में उस नेता को चुनाव लड़ने के लिये सारी पार्टियाँ मना रही है. पता नहीं क्यूँ अभागा मान ही नहीं रहा!

दद्दन पहलवान अखाड़ा क्यूँ चलाते हैं?

लंबी उमरिया है. ख़ून थोड़ा सा भी ग़र्म हो तो कहीं न कहीं भिड़ंत हो ही जाती है.

ऐसे में जज साहब ने दद्दन पहलवान को नसीहत दी: “पहलवान जी, अब आप की उमर हुई. अब आप जो हैं, केवल अखाड़ा चलाइये!”

“हुज़ूर, बात तो सही है आपकी. मगर इस उमर में अब मैं अखाड़ा हिला सकता हूँ, चला तो नहीं सकता!”

मोटर साइकिल जानलेवा हो सकती है

लोग आज कल मोटर साइकिल चलाने में बिलकुल ही असावधानी बरतते हैं.

अपने राम खिलावन ही की बात करो. बेचारे के हाथ पैर टूटे हुए हैं और अस्पताल में कराह रहा है. अच्छा हुआ कि उसने हेलमेट नहीं उतारी.

मोटर साइकिल तो पाँच किलोमिटर प्रति घण्टे की गति से जा रही थी मगर जिस बकरी से जा टकराई वह बकरी दद्दन पहलवान की थी.

दद्दन पहलवान को लूटने का नतीजा

दद्दन पहलवान एक बार लखनऊ से टेढ़ामऊ वापिस आ रहे थे अपने शागिर्द ही की टैक्सी में.

रास्ते में पता चला कि डाकुओं ने फाँदा डाला हुआ है.

उस्ताद और शागिर्द के बिच में बड़ी गंभीर चर्चा हुई. फ़िर तय हुआ कि जो मिला, आधा-आधा बाँट लेंगे.

समाचार – दद्दन पहलवान गिरफ़्तार

दद्दन पहलवान को एटीएम मशिन तोड़ने के ज़ुर्म में गिरफ़्तार कर लिया गया.

उनको घेरने वाले सशस्त्र लुटेरों की हालत गंभीर बताई जा रही है.

डॉक्टरों के मुताबिक़ एटीएम मशिन की मार जान-लेवा भी हो सक्ती है. 🙂

समाचार – बरात में पंगा

दद्दन पहलवान के दुश्मनों ने उनके पोते की बरात में पंगा किया.

दुल्हा घोड़ी पर बैठ के जा रहा था कि घोड़ी की टाँग तोड़ दी.

फ़िर घोड़ी दुल्हे पर बैठ के गई. 🙂

 

छेड़खानी के समाचार

दद्दन पहलवान की जवान पोती की किसी बदमाश ने कलाई पकड़ी.

फ़िर उसने अपनी कलाई पकड़ी, ऑटो पकड़ा और सीधा हड्डियों के डॉक्टर के पास गया. 🙂

चोरी के समाचार

चोर चोरी करने के लिये हवेली में घूसे और पछताये.

उस हवेली में दद्दन पहलवान की तीन पुश्तें रहतीं है! 🙂

न किसी की आँख का नूर हूँ

कल राहुल गाँधी जी की सभा से लोग रफ़ूचक्कर हो गये. उन्हीं की शान में एक क़सीदा. याद रहे कि यह ग़ज़ल अंतिम मुग़ल बादशाह बहादुर शाह ज़फ़र ने लिखी थी.

न किसी की आँख का नूर हूँ   I am not the light of any eye
न किसी के दिल का क़रार हूँ  Nor am I the rest of any heart
जो किसी के काम न आ सके  One that is useless to all
मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ   I am that gust of wind

मेरा रंग-रूप बिगड़ गया      I got defaced
मेरा यार मुझसे बिछड़ गया    My beloved were separated from me
जो चमन ख़िज़ाँ से ऊजड़ गया  The garden that was deserted by autumn
मैं उसीकी फ़स्ल-ए-बहार हूँ    I am the crop of spring of that

ज़हेफ़ातिहा कोई आये क्यूँ?    Why should anyone come to express sorrow?
कोई चार फूल चढ़ाये क्यूँ?    Why should anyone bring flowers to lay?
कोई आ के शम्मा जलाये क्यूँ? Why should anyone come and burn candles?
मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ     I am the grave of that helplessness!

मैं नहीं हूँ नग्मा-ए-जाँ-फ़ज़ा   I am not a song that elates hearts
मुझे सुन के कोई करेगा क्या?  What will anyone gain by listening to me?
मैं वहीद रोग की हूँ सदा      I am the sigh of a patient of a chronic disease
मैं बड़े दुःखी की पुकार हूँ     I am a call of a very unhappy person

ना तो मैं किसी का हबीब हूँ   I am neither a friend of anyone
ना तो मैं किसी का रक़ीब हूँ   Nor am I a competitor of anyone
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ    I am the spoiled fortune
जो ऊजड़ गया वो दयार हूँ    I am the deserted address

मैं कहाँ रहूँ मैं कहाँ बसूँ      Where should I stay, O! where I stay
न ये मुझसे ख़ुश, न वो मुझसे ख़ुश Neither are happy with me
मैं ज़मीं के पीठ का बोझ हूँ    I am a burden on the back of earth
मैं फ़लक के दिल का ग़ुबार हूँ  I am a flicker of imagination of the sky

इटली के गुनाहगार

चाहे इटली के नौसैनिक हों या श्रीयुत क्वात्रोची, इटली के सारे गुनाहगारों को भारतीय दण्ड संहिता का एक ही नियम लागु होता है: दफ़ा  ९-२-११